ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer)




ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer)


मानव शरीर के अवयव और ऊतक कोशिकाओं (सेल) से बने होते हैं। कैंसर इन कोशिकाओं का एक रोग है। ब्रेस्ट कैंसर दुनिया में तेजी से फैलने वाली खतरनाक बीमारियों में से एक है। ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) या स्तन कैंसर की अधिकतर रोगी महिलाएं होती हैं। पुरुषों को भी स्तन कैंसर हो सकता है, लेकिन इसकी संभावना बहुत कम होती है।

 

कब होता है स्तन कैंसर (About Breast Cancer in Hindi)

ब्रेस्ट चर्बी (Fat), सहायक ऊतकों (Supporting Muscles) और लसीकाओ वाले ऊतकों (Lymphatic Tissues) के बने होते हैं, जिनमें लोब (Lobe) होते हैं। स्तन कैंसर तब होता जब स्तन वाहिकाओं और लोब की कोशिकाओं में कैंसर हो जाता है। डॉक्टरों के अनुसार  हमारा शरीर कोशिकाओं से बना होता है जो समय-समय पर टूटते और बनते हैं। यह क्रम बेहद नियंत्रित तौर पर होता है।

लेकिन जब कोशिकाओं के टूटने और बनने की प्रकिया अनियंत्रित हो जाती है और नई कोशिकाएं जरूरत से ज्यादा बन जाती हैं, तब उस जगह एक गांठ बन जाती है। जब यह कोशिकाएं या सेल्स इकठ्ठा हो कर बड़ा रूप धारण कर लेती हैं तब यह ट्यूमर में बदल जाती हैं।

ट्यूमर दो तरह के हो सकते हैं – बिनाइन और मैलिग्नेंट। इनमें से बिनाइन ट्यूमर (गांठ) तो गैर-कैंसरस होती है लेकिन मैलिग्नेंट ट्यूमर को कैंसरस माना जाता है। इस चीज का पता जांच से किया जाता है।

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण

ब्रेस्ट कैंसर के कारण (Reason for Breast Cancer)

कई लोग मानते हैं कि ब्रेस्ट कैंसर अनुवांशिक होता है जो पूरी तरह सही तथ्य नहीं है। स्तन या ब्रेस्ट कैंसर के कुछ अहम कारण निम्न हैं:

  • आयु-स्तन कैंसर होने का जोखिम आयु के साथ बढ़ता है।
  • यदि आपको पहले कैंसर या स्तन का कोई अन्य रोग हुआ हो।
  • पारिवारिक इतिहास – केवल 5–10% स्तन कैंसर ही अनुवांशिक रूप से प्राप्त जीन के कारण होते हैं।

 

स्तन कैंसर का खतरा किन महिलाओं को ज्यादा होता है?

  • अधिक उम्र की महिलाएं।
  • जिन महिलाओं की मां, बहन या बेटी को स्तन कैंसर हुआ हो
  • जन्म के समय से ही क्रोमोज़ोम (गुणसूत्रो) में बदलाव हो।
  • महिला जिसे बच्चे ना हुए हों, या 30 साल की उम्र के बाद बच्चे हुए हों।
  • जिसे 12 साल की उम्र से पहले ही पीरियड्स शुरु हो गए हों।
  • जिस महिला को 50 साल की उम्र के बाद मेनोपॉज (रजोनिवृत्ति) हुई हो।
  • जिस महिला की स्तन के ऊतक काफी घने हों। आपकी मेमोग्राफी करके डॉक्टर ये जानकारी दे सकते है।
  • जो महिला गर्भ निरोधक गोलियों का लंबे अर्से से इस्तेमाल कर रही हो।
  • जो महिला दिन में 2 से 5 बार शराब का सेवन करती हो।
  • जिस महिला को मेनोपॉज के बाद ज्यादा मोटापा आ गया हो।
  • जिस महिला ने हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी इस्तेमाल की हो।
  • जो महिलाएं अपने बच्चों को स्तनपान नहीं करवातीं।

हार्मोन संबंधी कारक

एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोजन नामक हार्मोन से लंबे समय तक सम्पर्क में आने से आपका स्तन कैंसर का जोखिम बढ़ सकता है।

जीवनशैली संबंधी कारक

लम्बे समय तक प्रतिदिन दो पेग से ज्यादा शराब पीना तथा धूम्रपान से आपका स्तन कैंसर का जोखिम बढ़ सकता है| वजन ज्यादा होना भी स्तन कैंसर का कारण बन सकता है।

सामान्य उपचार

  • अगर आपको थोड़ा सा भी संशय हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लीजिये।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *