कब्ज (Constipation)




कब्ज (Constipation)


कब्ज एक बेहद आम बीमारी बन चुकी है। मल त्याग एक प्राकृतिक क्रिया है। लेकिन जब मल त्याग करने में अगर परेशानी आती है तो उस समस्या को कब्ज (Kabj) कहते हैं। अनियमित खानपान और गलत जीवनशैली के कारण यह बीमारी लगातार बढ़ती जा रही है।

 

कब्ज क्या है  (About Constipation in Hindi)

कब्ज का अर्थ बहुत कड़ा मल या मल त्याग करने में कठिनाई होती है। अगर भोजन में रेशे (फाइबर) या पानी की मात्रा कम हो तो आंतों में भोजन धीरे धीरे खिसकता है और बड़ी आंत (Large intestine) उसमे से पानी सोखती रहती है जिसके कारण वह धीरे धीरे कड़ा हो जाता है और मल त्यागने में दिक्कत आती है ।

कब्ज के लक्षण

कब्ज के कारण (Constipation Causes)

कब्ज के कारण (Causes for Constipation):

  • ऐसे आहार जिनमें चर्बी और शक्कर ज्यादा हों और रेशे कम हों।
  • काफी मात्रा में तरल पदार्थ न लेना।
  • निष्क्रिय रहना।
  • जब आप को मल त्याग की इच्छा हो तब शौचालय न जाना।

सामान्य उपचार

कैसे दूर करें कब्ज़ (Treatment of Constipation in Hindi)

कब्ज़ को दूर करने का सबसे उपयोगी उपाय अधिक मात्रा में पानी पीना और खाने में फाइबर को शामिल करना होता है। कुछ अन्य उपाय निम्न हैं:

  • दिन में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए। गुनगुने या गरम पानी से आपकी आँतों को आसानी से काम करने में मदद मिल सकती है।
  • ब्रैन सिरियल, होल ग्रेन ब्रेड, कच्ची सब्जियां, ताजे या सुखाये हुए फल, सूखा मेवा और पॉपकॉर्न जैसी अधिक रेशे वाली चीजें खाइए। रेशे शरीर से मल को निकलने में मदद करते हैं।
  • चीज़, चॉकलेट और अण्कडें आदि कम खाना चाहिए क्योंकि इनसे कब्ज (Kabj) बढ़ सकती है।
  • मल को नरम करने के लिए आलू बुखारे या सेब का रस पीजिए।
  • अपनी आँतों को ठीक से काम करने में मदद करने के लिए कसरत कीजिए।
  • कब्ज में पैदल चलने से लाभ होता है।
  • जब आप को मल त्याग करने की इच्छा हो, शौचालय जाएं।
  • एनीमा का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक की सलाह लें।

अन्य उपचार




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *